R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: 18 साल के भारतीय ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानंद ने मैग्सन कार्लसन को दी शतरंज में चुनोती

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: आर प्रज्ञानंद जो भारत के युवा है शतरंज सनसनी में अपने करियर में  आजतक अनेक बार पहला  स्थान प्राप्त कर चुके हैं। आर प्रज्ञानंद अपनी दूसरी World cup  में टॉप  तीन स्थान के दो मास्टरों को आश्चर्यचकित कर दिया और अनेक शंतरंज लड़ाइयों के विजेता, दुनिया के नंबर 1 Magnus Carlsen के साथ फाइनल खेलने की तरफ चल पड़े है हलाकि यह उनके लिए आसान नही होगा।

Carlsen प्रारूप में पूर्व मुलाकात में , प्रगू ने 30 साल के  Carlsen को अपने साथ अंक बाटने  के लिए मजबूर किया, हालाँकि पिछले वर्ष में  एक आधिकारिक online tournament में पहले  विश्व विजेता  को अचम्भित किया। आपकी जानकारी के लिए बता दे की

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: 18 साल के भारतीय ग्रैंडमास्टर आर प्रज्ञानंद ने मैग्सन कार्लसन को दी शतरंज में चुनोती
R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen (Photo Credit By Mashableindia)

2022 के फरवरी में Airthings Masters में, R Praggnanandhaa ने online tournament के 8वें दौर में Carlsen को हराया था। जिसकी वजह से FIDE World Cup chess 2023 में R Praggnanandhaa का वर्ल्ड कप मैच जो Carlsen के साथ काफी चर्चा में रहा .

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: महज 12 की की आयु में रचा था इतिहास

अगर आप Praggnanandhaa के बारे में नही जानते तो बता दे की वह 12 वर्ष की आयु से ही ग्रैंडमास्टर का ख़िताब अपने नाम कर लिए थे। Praggnanandhaa जन्म 10 अगस्त 2005 को भारत के मशहुर शहर Chennai में हुआ था। Praggnanandhaa महज  तीन साल आयु से  ही शतरंज में अपना रूचि दिखाने लगे थे। Praggnanandhaa के पिता रमेशबाबू  है जो Bank में काम करते हैं।

रमेशबाबू पोलियो से ग्रसित होने के कारण भी अपनी मेहनत से अपने बालको का अच्छे से पालन-पोषण किया। Praggnanandhaa की बड़ी बहन वैशाली को भी शतरंजका खेल काफी पसंद था और वैशाली मको देखकर ही Praggnanandhaa को  शतरंज में रूचि आयी फिर उन्होंने इसे खेलना शुरू किया था।

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: क्या आर प्रज्ञानंद FIDE World Cup chess 2023 का ख़िताब आने नाम कर पाए

भारत के 18 साले के  grandmaster R Praggnanandhaa  विश्वकप शतरंज के फाइनल में हार गए। R Praggnanandhaa ने  सेमीफाइनल में दुनिया के तीसरे स्थान के प्लेयर Fabiano Caruana को हराया था जिसके बाद वो फाइनल में पहुचे. परंतु फाइनल में नॉर्वे के Magnus Carlsen के साथ फाइनल मैच को अपने नाम करने में कामयाब नही हो सके।

R Praggnanandhaa को वर्ल्ड के नंबर-1 प्लेयर के खिलाफ टाईब्रेकर में हार का सामना करना पड़ा। R Praggnanandhaa यदि  फाइनल मैच को जीत कर अपने नाम कर लेते तो FIDE World Cup टूर्नामेंट को खुद के नाम करने वाले दूसरे भारत के वासी बन जाते, परंतु ऐसा नहीं हो सका। भारत के दिग्गज प्लेयर विश्वनाथन आनंद ने दो बार FIDE World Cup को अपने नाम किया था। आपको बता दे की विश्वनाथन आनंद वर्ष  2000 और 2002 में इसके विजेता बने थे।

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: बहन R Praggnanandhaa को  कार्टून से दूर रखती थी

R Praggnanandhaa की बहन चाहती थीं कि R Praggnanandhaa कार्टून को टीवी में देखना कम करे। इसलिए वैशाली ने अपने छोटे भाई को chess की कई चालें सिखाई थी उस समय। वैशाली को स्वाभविक रूप से  उस समय जरा सा भी एहसास नहीं था कि R Praggnanandhaa बाद में शतरंज के खेल में अपना और परिवार का नाम मशहुर कर देगा।

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: R Praggnanandhaa मां ने हमेशा किया सपोर्ट

R Praggnanandhaa की इस success में उनकी माता ने काफी सहायता की। R Praggnanandhaa को बचपन से ही chess से सम्भ्तित कई प्रतियोगिता  में हिस्सा लेने के लिए और  उन्हें वहा ले जाने की जिम्मेदारी उनकी माता नै निभाती थी। R Praggnanandhaa की माँ उनको और वैशाली दोनों को chess में आगे बढ़ने के लिए उत्साहित कर हमेशा उनके सपोर्ट के लिए तत्पर रहती थीं।

R Praggnanandhaa vs Magnus Carlsen: प्रगनाननंदा को  क्रिकेट खेलना भी है पसंद

R Praggnanandhaa  शतरंज के अलावा क्रिकेट खेलने का भी बहुत शौक रखते हैं। जब भी उन्हें समय मिलता है तो वो cricket match खेलने भी जाते हैं।चुकीं, chess में अपना करियर बनाने के वास्ते  R Praggnanandhaa ने  क्रिकेट में कोई खास उपलब्धि प्राप्त की है.

Must Read

Sunny Villa

Leave a Comment